Pages

Saturday, October 14, 2017

हिंदी तो बिंदी है

हिंदी तो बिंदी है भारत माँ के भाल की
बोली इसकी खड़ी है लिपि देवनागरी
संस्कृत की बेटी है उर्दू की भगिनी है
भाषाओँ में भागीरथी है हिंदी
सूर की बोली खुसरों की पहेली
कबीर की वाणी रसखान का काव्य है हिंदी
तुलसी की मानस में कामायनी के व्याख्यान में
विचारों की अविरल धारा है हिंदी
क्रिया विशेषण वाच्य कारक
संधि समास अलंकारों से सुसज्जित
साहित्य की दुल्हन सी है हिंदी
हिंदी की गाथा है गाथा भरत संतान की 
मनीषा वर्मा

Monday, August 28, 2017

अच्छे दिन हैं भाई कहने दो

जनतंत्र है सब स्वतंत्र हैं
अच्छे दिन हैं भाई कहने दो
नोट जो रखे थे माँ ने कनस्तर में
हुए काले से गुलाबी रहने दो
आ गए अच्छे दिन भाई कहने दो
सब्जी बेच रही जो माई
उसके घर में नहीं पकती रोटी ढाई
आ गए अच्छे दिन भाई कहने दो
फसल बहा ले गया  मानसून फिर
और झूल गया  एक गजेंदर फिर
आ गए अच्छे दिन भाई कहने दो
जी एस टी, सी एस टी ढो रही जनता
हो गया बाज़ार सस्ता कह रहे नेता
आ गए अच्छे दिन भाई कहने दो
व्यापारी को मिलता नहीं नोट
रूपये का गिर गया मोल
आ गए अच्छे दिन भाई कहने दो
डूब रहा पटना दरभंगा
जल रहा रोहतक हरियाणा
आ गए अच्छे दिन भाई कहने दो

लड़ रहा खाली पेट जवान
भूखा मर गया किसान
आ गए अच्छे दिन भाई कहने दो

कल तक थी बेटियाँ कंधो पर भारी 
अब आई है नन्हे मासूमों  की बारी  
बांचते पोथी पत्री  शिक्षाविद कहते 
नहीं है सिर्फ ज़िम्मेदारी हमारी 

आ गए अच्छे दिन भाई कहने दो

कमीटियाँ बन गईं  ढेर सारी  
मर गई कब की आँख की शर्म सारी  
आ गए अच्छे दिन भाई कहने दो
मनीषा

Friday, June 16, 2017

तिथियाँ रह जाती हैं

सिर्फ तिथियाँ  रह जाती हैं
लोग चले जाते हैं
लम्हे गुम  हो जाते हैं
कुछ अनकही बाते रह जाती हैं

दिन निकलता है ढलता है
चेहरे बदल जाते हैं
समय चक्र सा चलता है
सिर्फ व्यवहार बदल जाते हैं

गम ओ 'खुशियाँ  वही रहती हैं
मुकाम बदल जाते हैं
कहानियाँ  किस्से वही  रहते हैं
बस किरदार बदल जाते हैं

दुनियावी संसार चलता है
कर्ता, कारक बदल जाते हैं
कर्मो का खाता  चलता है
सिर्फ कर्ज़दार  बदल जाते हैं
मनीषा 

Wednesday, March 15, 2017

ये कैसे रहनुमा हैं

ये कैसे रहनुमा हैं जो सच से डर जाते हैं
धर्म समझ कर नासमझ बच्चों को आँख दिखाते हैं
कैसे ये पैगम्बर हैं कौन से हैं ये खुदा
जो मासूम मुस्कुराहटों पर फतवे लगाते हैं
कांच से भी नाज़ुक हैं ये कौन से संस्कार
जो प्यार मोहब्बत से चटक जाते हैं
कोई निकला है तीर -ओ- तलवार तो कोई ख़ंजर ले कर
ये किसके धर्म हैं जिन्हें ये चन्द ठेकेदार बचाते हैं
मनीषा

Tuesday, March 14, 2017

ना खेलूँ श्याम तो संग होरी रे

ना खेलूँ श्याम तो संग होरी रे
भरी गागर फोरी काहे मोरी रे, रसिया
नंद बाबा के लाल भए दोउ
इक बलराम दूजे सांवल मुरारी रे, रसिया
ग्वाल बाल संग मोहे रंग दिखावे
श्याम काहे डगर मोरी घेरी रे, रसिया
बरसाने जाइ के रास रचाना
श्याम हमहुँ ना राधे तोरी रे, रसिया
रंग अबीर टेसू मोहे भावे
भर भर गागर भिजोए बनवारी रे, रसिया
ना खेलूँ श्याम तो संग होरी रे
भरी गागर फोरी काहे मोरी रे, रसिया
मनीषा
मार्च 2017